September 2019
Enjoy the diwali 2019 with these great stuff and make this day special for you GF by sharing these amazing diwali greetings with her. Our whole team wishes you all a very happy and enjoyable diwali 2019. And please do share this with you friends and for more cool stuff stay connected.


Kumkum bhare kadmon se aaye LAYXMIJEE 
apke dwar,sukh sampati mile aapko apar,
Deepawali ki subhkamnain kare sweekar.
 HAPPY DIWALI 2019

diwali 2019  Facebook Whatsapp Messages Status Updates




Diwali Status for Whatsapp in Hindi

दीपोत्सव पर ढेरो शुभकामनाएं ॥

Aai aai Diwali aai, Saath me kitni Khushiya laayi, Dhoom machao, mauj manao, aap sabhi ko Diwali ki badhai. Happy Diwali

“दीवाली के इस मंगल अवसर पर ,आप सभी की मनोकामना पूरी हों, खुशियाँ आपके कदम चूमे ,इसी कामना के साथ आप सभी को दिवाली की ढेरों बधाई .”

Short Happy Diwali Whatsapp Status

दीपक का पर्काश हर पल आपके जीवन मैं एक नयी रौशनी दे, बस यही शुभकामना है हमारी आपके लिए दीवाली के इस पवन अवसर पर .. शुभ दीवाली

Latest Diwali Wishing Status FB & Whatsapp

आपका एवें आपके परिवार का हर दिन हर पल शुभ हो, और आप उत्तरोत्तर प्रगति पथ पर अग्रसर रहे, दीपावली महापर्व पर ऐसी शुभकामनाये !!!!!!

आँखो से आँसूओं की जुदाई कर दो, दिल से ग़मों की विदाई कर दो, अगर दिल ना लगे कहीं तो, आ जाओ मेरे घर.. और मेरे घर की सफाई कर दो… और याद रहे यह Offer दिवाली तक ही है

बुरा ना मानो होली है… यह कह कर किसीने मुझ पर रंग फेंक दिया था… आज ‘बुरा ना मानो दिवाली है’ यह कहकर मैंने उस पर **बम** फेंक दिया… आज पूरा मोहल्ला मुझे ढूंढ रहा है…

Deepawali mein deepo ka didar, Khusiyo ke sath mubarak hajar.

Har ghar mein ho ujaala, aaye naa kabhi raat kali, Har ghar me mane khushiya, har ghar me ho Diwali.

Diye ki roshni se sab andhera dur ho jaye, Dua h ki jo chaho wo khusi manjur ho jaye.

Diwali Ki Light, Kare Sab Ko Delight, Pakro Masti Ki Flight Aur Dhoom Machao All Night.. Happy Diwali!!

कह दो अंधेरों से कहीं और घर बना लें
मेरे मुल्क में रौशनी का सैलाब आया है.

  • दीवाली के इस मंगल अवसर पर,
    आप सभी की मनोकामना पूरी हों !!!
    खुशियाँ आपके कदम चूमे,
    इसी कामना के साथ आप सभी को दिवाली की ढेरों बधाई !!!
  • Roshan ho deepak aur saara jag jagmagaye,
    Liye sath Sita maiyya ko Ram ji hain aaye,
    Har shehar yu lage mano ayodhya ho,
    Aao har dwar har gali har mod pe hm deep jalaye.
    Diwali ki dher sari shubkamnaye !!!
  • जगमग थाली सजाओ,
    मंगल दीपो को जलाओ,
    अपने घरों और दिलों मै आशा की किरण जगाओ,
    खुशियाँ और समृधि से भरा हों आपका जीवन,
    इसी कामना के साथ शुभ दीपावली |||
  • Har diya aap ki dehleez par jale,
    Har phool aapke aangan me khile !!!
    Aap ka safar ho, itna haseen ki,
    Har khushi aap ke saath chale !!!
  • दीवाली है रौशनी का त्यौहार,
    लाये हर चेहरे पर मुस्कान |
    सुख और समृधि की बहार,
    समेट लो सारी खुशियाँ, अपनों का साथ और प्यार,
    इस पावन अवसर पर,
    आप सभी को दीवाली का प्यार |
  • दीये से दीये को जला कर दीप माला बनाओ,
    अपने घर आंगन को रौशनी से जगमगाओ,
    आप और आप के परिवार की दीवाली,
    शुभ और मंगलमय हो !!!

Latest Diwali 2019 Facebook Whatsapp Messages Status Updates


Dhan – Laxmi Ayengi Itni Ke Sb Jagha Nam Ho jayega,
Din Rat Vyapaar Badega Itna Adhik Kam Ho jayega,
Iss duniya ke tum Ban jaoge Sartaz,
Yahi Kamna Hai Humari ap Ke Liye,
Diwali Ki khub sari Subh Kamanayein.

Diip humesa jalte zagmagate rahein,
Hum apko aur ap hamein yad aaate rahein,
Jab tk ye zindagi hai,
bs yahi dua hai hamari,
Aap humesa chand ke trha zagmagate rahein.
Happy Diwali 2019!

Ashirwad mile aapko shree Ganesh se.
Vidyaa milein aapko Maa Saraswati se.
Dolat milein aapko maa Laxmi se.
Khushiyan milein aapko us Rab se.
Pyar milein duniya mein Sab se.
duva hai ye humari is dil se.
Happy Diwali 2019!

Diwali I, masti chhai,
Rang gayi rangoliyan, deep hai jalayein,
Dhum dhadake, chhodo phatake,
Jal gayi phulzadiyaan jo sabko bhaye,
Happy Deepawali 2019!

MAA LAXMI G KA HAATH HO,
MAA SARASWATI G KA SAATH HO,
SHREE GANESH G KA NIWAAS HO,
AUR MAA DURGA G K ASHIRWAAD
SE APKE ZIVAN ME KHUSHIYAN HO.
“HAPPY DEEPAWALI 2019″

Phul ke suruvaat hoti hai kali se,
Zindgi ke suruvaat hoti hai pyaar se
Pyr ke suruvaat hoti hai apno se

AUR
apno ke suruvaat hoti hai aaapse
* Happy Diwali 2019*

Dipak ka prakaash har pal apke
zivan mein ek nayi roshni de,
Bus yahi shubhkamna hai humari
apke liye deepawali k iss paavan awsar per,
Happy diwali 2019!
Aaz se aaap ke yahan dhn ke barsaat ho,
Mata Laxmi ka vaas ho,
Sankatton ka naash ho,
Har dil per aapka raaj ho,
Unnati ka ser par taaj ho,
Ghar me shanti ka vaas ho.
* HAPPY DIWALI 2019*

Diwali Ki ye zagmag Light
Karti hain Sub Ko Delight
Pakdo Masti Ki Flight Aur
Dhoom Machao full Night
Happy Diwali 2019!!

This Diwali I Am Sending You CASH:
C-Care
A-Affection
S-Smiles
H-Hugs
* HAPPY DIWALI *

 

A celebration loaded with sweet recollections,

sky loaded with firecrackers,

mouth loaded with desserts,

house loaded with diyas and heart brimming with pleasure.

With sparkle of Diyas and the Echo of Chants…

Might thriving and bliss fill your life

Wishing you an exceptionally cheerful and prosperous upbeat Diwali 2019

 

 

Might the delight, cheer,

enjoyment and merriment

Of this wonderful celebration

Encompass you for eternity.

Might the bliss,

That this season brings

Light up your life

Also, trust the year

Brings you fortunes and

Satisfies all your dearest dreams!
Happy deepawali greetings
I Wish that the the beauty of this festival of diwali Bring you happiness and fill your home with joy and bliss and may the coming year bring you serenity, bliss and a healthy life. HAPPY DIWALI 2019

 

Watch out this SMS is going to explode in
:05
:04
:03
:02
:01
(((((BOOoooommmmM)))))
?*?*?*?*?*?*?
*?*?HAPPY?*?*
?*?DEEPAWALI?*?
??.*?2019?*??.

Diwali 2015 SMS Wishes Quotes In Bangla

Checkout this beautiful amazing collection of diwali 2019 sms wishes and quotes in Bangla. Use these beautiful bangla diwali quotes and wishes to greet your friends and family.
  • Diyas ēra kiraṇa saṅgē,
    ēbaṁ chants ēra ikō,
    ānanda ēbaṁ tr̥pti āpanāra jībana pūraṇa hatē pārē!
    Āpani ēkaṭi khuba sukhī ō samr̥d’dha dīpābalī tabē’i!!!
  • এয়ার , প্রেমের গভীর সমুদ্রের হালকা হিসাবে যন্ত্রণার,শাড়ি হিসেবে সলিড বন্ধু, সাফল্য গোল্ড হিসাবে উজ্জ্বল …এই আপনার জন্য শুভেচ্ছা এবং দীপাবলী প্রাক্কালে আপনার পরিবার হয়
  • সৌভাগ্যবান তারিফ শেখা হয়েছে , কিন্তু যেখানেই থাকেন না এমন এক .শান্তি ও সমৃদ্ধির একটি প্রচুর সঙ্গে একটি আহ্লাদিত দীপাবলী ও শুভ নববর্ষের জন্য শুভ কামনা .
  • আপনার লাইফ আনন্দদায়ককখনো আশা হারিও নাসবসময় আপনার পরিবার নিয়ে খুশি হতেএকজন ভালো বন্ধু এছাড়াও কাজ করতে আপনার শত্রুআল্লাহ ও অগ্রজ থেকে মঙ্গল একটি পেতে
  • এই আনুষ্ঠানিকভাবে আমি নগদ, চেক , ক্রেডিট কার্ড ইত্যাদি শেষ দিনে ভিড়ের এড়াতে দ্বারা দীপাবলী উপহার গ্রহণ করতে শুরু করেছে যে ঘোষণা করা হয় . এখন পাঠান !
If you like our collection of bangla diwali 2019 wishes and quotes then please do share it with you friends. Our team wishes you a very blessed diwali 2019. ENjoy the celebration.

Incoming search terms:

  • waiting diwali status
  • whatsapp status for moms

Happy Diwali 2015 SMS Wishes Quotes In Urdu

  • لائٹس آتشبازی ، اس دن آپ کے ساتھ منانے کے لئے مبارک ہو نیا کپڑا ، ، میں نے ایک خوش دیوالی چاہتے پھٹنے ، چمک .
  • خوش قسمت کی تعریف کرنا سیکھ لیا ہے ، لیکن حسد نہیں ہے جو ایک ہے . امن اور خوشحالی کے ایک بہت کے ساتھ ایک خوشی دیوالی اور نیا سال مبارک ہو کے لئے نیک خواہشات .
  • تمہاری زندگی خوشی تمہارے دشمن بھی ایک اچھا دوست ایک خدا اور بڑے سے رحم کر ہمیشہ امید کھو اپنے خاندان کے ساتھ کبھی خوش نہیں بنائیں
  • دیوالی کے نور الہی اپنی زندگی امن، خوشحالی ، خوشی اور اچھی صحت میں پھیل سکتا ہے .
  • یہ میں نے آپ کو خوش دیوالی خواہش میں ان سے پوچھیں کیونکہ آپ کے لئے انتظار کر رہا ہے یو پریوں کے لئے رقص یو موم بتیاں کے لئے مسکرا خوشگوار روشنی باہر دیکھو!
Hope you enjoyed reading these beautiful diwali 2019 wishes in urdu. We always try to bring latest stuff to you and we want you to be with us. Stay tuned for more amazing posts on diwali 2019. HAPPY DIWALI 2019.
Tags: best diwali 2019 db for fb, best diwali whatsapp status, best diwali wishes, diwali 2019 hind wishes, diwali sms best, diwali sms in hindi, diwali wishes, funny diwali sms, latest diwali wishes

Navratri Don'ts: नवरात्रि व्रत में भूलकर भी न करें ये 12 काम, वरना निष्फल हो जाएगा मां दुर्गा का व्रत


मां दुर्गा की आराधना को समर्पित शारदीय नवरात्रि 29 सितंबर 2019 यानी रविवार से आरंभ हो रही है। इसे दुर्गा पूजा (Durga Puja) के नाम से भी जाना जाता है। चैत्र नवरात्र हों या शारदीय नवरात्र नौ दिनों तक मां भगवती की पूजा का उत्सव चलता है। नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा के सभी नौ रूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। मान्यता है कि नवरात्रि के दिनों में मां के दर्शन और पूजन से विशेष फल मिलता है। इस समय मंदिर जाकर देवी मां के दर्शन करने से जीवन में सफलता मिलती है और सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। इस अवसर पर कई लोग घर में कलश की स्थापना और व्रत रखते हैं। साथ ही घर में मां के नाम की अखंड ज्योत या सुबह शाम जोत भी जलाते हैं।

धार्मिक मान्यता के अनुसार नवरात्रों में मां भगवती की 9 दिनों की पूजा सनातन काल से चली आ रही है| सर्वप्रथम श्रीरामचंद्रजी ने इस शारदीय नवरात्रि पूजा का शुभारंभ समुद्र तट पर किया था और उसके बाद दसवें दिन लंका में रावण पर विजय प्राप्त करी थी, तब से ही असत्य पर सत्य की जीत और अधर्म पर धर्म की जीत का त्यौहार दशहरा मनाया जाने लगा।

शारदीय नवरात्रि में विभिन्न राशि वालों पर होगी माँ जगदम्बा की विशेष कृपा, होगी बेहद भाग्यशाली ये राशियाँ


नवरात्रि शुरू होने में अब कुछ ही समय बचा है। इस वर्ष 2019 में शारदीय नवरात्रि रविवार 29 सितंबर से शुरू हो रही है। नवरात्रों का हिंदू धर्म में बहुत बड़ा महत्व है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ऐसा माना जाता है कि इन दिनों माँ पार्वती कैलाश पर्वत से धरती पर अपने मायके आती हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार माँ का धरती पर आगमन होने से हर राशि के जातक पर कुछ न कुछ असर जरूर पड़ता है। ऐसे में आइए जानते हैं कि विभिन्न राशि वालों के लिए नवरात्रि क्या विशेष लेकर आ रही है और कैसे रहेंगे नवरात्रि के यह 9 शुभ दिन।

 मेष राशि

शारदीय नवरात्रि में विभिन्न राशि वालों पर होगी माँ जगदम्बा की विशेष कृपा, होगी बेहद भाग्यशाली ये राशियाँ

ज्योतिषयों के अनुसार मेष राशि वाले लोगों के लिए देवी माँ की उपासना के ये 9 दिन बहुत खास रहने वाले हैं। इस राशि के लोगों को इन 9 दिनों में नौकरी में तरक्की और व्यवसाय में लाभ मिलेगा। यद्धपि इस राशि के जातकों को सेहत से जुड़ी कुछ समस्या भी हो सकती है। मेष राशि के लोगों को लाल चंदन की माला और लाल फूलों के साथ देवी माँ की पूजा करनी चाहिए।



वृषभ राशि

शारदीय नवरात्रि में विभिन्न राशि वालों पर होगी माँ जगदम्बा की विशेष कृपा, होगी बेहद भाग्यशाली ये राशियाँ

वृषभ राशि के जातकों को अपने करियर में उन्नति का लाभ मिल सकता है। मगर आपके विरोधी आपके कार्यों में बाधा पहुंचाने की कोशिश करेंगे। इसलिए आप नवरात्रि में सफेद चंदन की माला से देवी माँ के मंत्रों का जाप करें और सफेद बर्फी या मिश्री का भोग भी दुर्गा जी को लगा सकते हैं ताकि आप अपने विरोधियों पर विजय प्राप्त कर सकें।


मिथुन राशि

शारदीय नवरात्रि में विभिन्न राशि वालों पर होगी माँ जगदम्बा की विशेष कृपा, होगी बेहद भाग्यशाली ये राशियाँ

इस नवरात्रि में नौकरी की तलाश कर रहे मिथुन राशि के लोगोँ की नौकरी की तलाश पूरी हो सकती है। इस कार्य में सफलता प्राप्त करने हेतु मिथुन राशि के व्यक्तियों को तुलसी की माला से गायत्री मंत्र का जाप और प्रसाद में माँ को खीर का भोग भी लगाना चाहिए।


कर्क राशि

शारदीय नवरात्रि में विभिन्न राशि वालों पर होगी माँ जगदम्बा की विशेष कृपा, होगी बेहद भाग्यशाली ये राशियाँ

कर्क राशि के जातकों को विशेषकर व्यवसाय करने वाले लोगों को कुछ सावधान रहने की आवश्यकता है। इन लोगों को अपने बिजनेस पार्टनर के द्वारा धोखा और मानसिक तनाव भी मिल सकता है। अतः इन लोगों को नवरात्रि के नौ दिनों में सफेद चंदन की माला से जाप करके माँ दुर्गा को दूध से बनी मिठाई का भोग और सफेद वस्तुएं अर्पित करना चाहिए।


सिंह राशि

शारदीय नवरात्रि में विभिन्न राशि वालों पर होगी माँ जगदम्बा की विशेष कृपा, होगी बेहद भाग्यशाली ये राशियाँ

नवरात्रि के नौ दिन सिंह राशि वालों के लिए बहुत शुभ हैं। इस राशि वालों को धन लाभ और कोई खुशखबरी सुनने को मिल सकती है। इसके अलावा किसी लंबी बीमारी से छुटकारा मिल सकता है। इस राशि के लोगों को हर रोज दुर्गा सप्तशति का पाठ और गुलाबी रत्न से बनी माला से माँ के मंत्र का जाप करना चाहिए। यदि इस राशि वाले जातक नवरात्रि के नौ दिनों में माँ दुर्गा को श्रृंगार की वस्तुएं अर्पित करते हैं तो इस समय में उनको अत्यंत लाभ प्राप्त हो सकता है।


कन्या राशि

शारदीय नवरात्रि में विभिन्न राशि वालों पर होगी माँ जगदम्बा की विशेष कृपा, होगी बेहद भाग्यशाली ये राशियाँ

नवरात्रि में कन्या राशि के लोगों को अपने स्वास्थ्य के प्रति सावधान रहने की आवश्यकता है। इस नवरात्रि में यदि व्रत रख पाना संभव न हो तो नवरात्रि के पहले और आखिरी दिन व्रत रख सकते हैं। कन्या राशि के लोगों को बाहर का खाना खाने से बचना चाहिए। इस समय में माँ दुर्गा को हरे रंग के वस्त्र अर्पित करने चाहिए। साथ ही इस राशि के जातकों को तुलसी की माला से गायत्री दुर्गा मंत्रों का जाप करना चाहिए।

Navratri Special: बादाम हलवा रेसिपी


हमारी भारतीय परम्परा में, बादाम का हलवा सभी तरह के भारतीय त्यौहारों में एक अहम स्थान रखता है। बादाम हलवा बहुत स्वादिष्ट होता है तथा इसमें प्रोटीन, कैल्शियम, पोटेशियम, मैगनीशियम और विटामिन E प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। बादाम का हलवा बहुत ताकत और ताजगी देने वाला होता है।

बादाम का हलवा एक ऐसी सौम्य एवं स्वादिष्ट परम्परा है, जिसे कोई भी छोड़ना पसंद नही करेगा। आप बादाम का हलवा त्यौहारों, ठंड के दिनों के अलावा सामान्य दिनों में जब भी चाहे बना और खा सकते हैं। हमेशा पसंद आने वाला यह खास व्यंजन, थोड़ा कैलोरी से भरपूर होता है इसलिए आप एक समय में कुछ चम्मच से ज़्यादा इसे नहीं खा पाऐंगे।

बादाम हलवा एक भारतीय मिठाई है जिसे त्यौहार या शादियों में बनाया जाता है। इस हलवे में बादाम को भिगो कर पीस लिया जाता है। इस मिश्रण को घी, दूध और केसर में पकाया जाता है। शारदीय नवरात्रि में अगर आप भी मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए व्रत रख रही हैं, तो आज मैं आपके साथ मां जगदम्बा को भोग लगाने के लिए बादाम हलवा बनाने की विधि शेयर कर रहीं हूँ। 

तो आइये बनाना शुरु करें बादाम हलवा


तैयारी का समय: 15 मिनट

पकाने का समय: 25-30 मिनट

भिगोने का समय: 8 घंटे


सामग्री:

बादाम- 200 ग्राम (एक कप)                       
दूध- एक कप
चीनी- 200 ग्राम (एक कप)
केसर के धागे- 10 -12
घी- 100-125 ग्राम (आधा कप से थोड़ा अधिक)
इलाइची- 3-4 (छील कर कूट लीजिये)
1 चम्मच पिस्ता (कटा हुआ), सजाने के लिए
1 चम्मच बादाम (कटा हुआ), सजाने के लिए









बादाम हलवा रेसिपी विधि:

1. बादाम हलवा बनाने के लिए सबसे पहले केसर के धागों को गरम दूध में भिगो कर 5 मिनिट के लिए अलग रख दीजिए। जिससे केसर अपना रंग दूध में छोड़ देगा।

2. इसके बाद पहले से भीगे हुए बादाम के छिलके उतारकर मिक्सी में थोड़ा सा दरदरा पीस लीजिये।

3. अब एक भारी तलेवाली कढ़ाही या नानस्टिक कढ़ाही में एक टेबल स्पून घी डाल कर गरम कीजिये और उसमें दरदरा पिसा हुआ बादाम पेस्ट डालिये। अब मिश्रण को कलछी से लगातार चलाते हुये धीमी आंच पर सुनहरा होने तक भूनिये।

4. इसके बाद हलवे में चीनी मिलाएं और कुछ देर तक धीमी आग पर भूनिये।


Navratri Special: बादाम हलवा रेसिपी





5. अब बादाम हलवे में दूध और केसर दूध डालकर मिक्स कर दें और बचा हुआ घी डालकर धीमी आग पर हलवे के गाढा होने तक भूनते रहिये।

6. आप देखेगे कि बादाम हलवे मेँ से बहुत ही अच्छी सुगन्ध आने लगी है और वह कढ़ाही के किनारों से भी नहीं चिपक रहा है। स्वादिष्ट बादाम हलवा बन चुका है।

7. आँच से हटा कर, हलवे में इलायची पाउडर डालकर अच्छी तरह मिला दीजिये।

8. इसके बाद तैयार बादाम हलवे को बॉउल में निकालें और पहले से कटे हुए पिस्ते और बादाम से सजाकर गरमागरम बादाम हलवे का मां को भोग लगाएं। बादाम हलवे को खाने के बाद मीठे में भी परोस सकते हैं।








सुझाव-

➤ वैसे तो हलवे के लिए बादाम को पहले से भिगोना अच्छा रहता हैं परन्तु यदि जल्दी में हों तो आप 2 -3 घण्टे पहले गर्म पानी में भी भिगो सकते है।

➤ बादाम के हलवे के लिए बादाम को दरदरा पीसे, बादाम बहुत ज्यादा बारीक़ नहीं पीसना चाहिए। बादाम बारीक़ पीसने से हलवा खिला खिला नहीं बनेगा।

➤ वैसे तो बादाम का हलवा बनाने के लिए नॉन स्टिक पैन अच्छा रहता है क्योंकि बादाम चिपकता है। लेकिन आप भारी तलेवाली कढ़ाही का भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

➤ हलवे को मध्यम व धीमी आंच पर लगातार हिलाते हुए पकायें अन्यथा हलवा नीचे चिपक सकता हैं। जिससे हलवे का स्वाद खराब हो जाएगा।

➤ आप चाहे, तो बादाम के हलवे में 1 पिंच फूड कलर डालकर भी हलवे को अच्छा रंग दे सकते हैं।

➤ बादाम का हलवा बिना केसर और फूड कलर के भी बना सकते हैं। 





Also Read: Lauki Paneer Kofta







Tags: badam halwa easy recipe, badam halwa home made recipe, indian sweets, badam halwa ki recipe, badam halwa recipe at home, badam halwa recipe in hindi, badam halwa recipe step by step, badam halwa recipe with almond flour, badam halwa recipe with almond meal, badam halwa recipe with milk, badam halwa simple recipe, badam ka halwa recipe hindi mai, बादाम हलवा रेसिपी, बादाम हलवा रेसिपी इन हिंदी, indian dessert












____
99advice.com provides you with all the articles pertaining to Travel, Astrology, Recipes, Mythology, and many more things. We would like to give you an opportunity to post your content on our website. If you want, contact us for the article posting or guest writing, please approach on our "Contact Us page."

Dhanteras 2019 | rashi anusar dhanteras ke din kya kharidna chahiye धनतेरस 2019



कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन भगवान धन्वन्तरि का जन्म हुआ था इसलिए इस तिथि को धनतेरस या धनत्रयोदशी के नाम से जाना जाता है। भारत सरकार ने धनतेरस को राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है।[1]

जैन आगम में धनतेरस को 'धन्य तेरस' या 'ध्यान तेरस' भी कहते हैं। भगवान महावीर इस दिन तीसरे और चौथे ध्यान में जाने के लिये योग निरोध के लिये चले गये थे। तीन दिन के ध्यान के बाद योग निरोध करते हुये दीपावली के दिन निर्वाण को प्राप्त हुये। तभी से यह दिन धन्य तेरस के नाम से प्रसिद्ध हुआ।



आने वाला है माँ दुर्गा का त्यौहार करें शुभ मुहूर्त में कलश स्थापना

नवरात्रि को सनातन धर्मों के पर्वों में से मुख्य पर्व माना जाता है। भारतवर्ष में हिंदूओं द्वारा इसे अत्यधिक उल्लास और श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। वैसे तो एक वर्ष में चार बार नवरात्री आती हैं, इनमें से दो गुप्त नवरात्री, तीसरी चैत्र नवरात्री और चौथी शारदीय नवरात्री कहलाती है। लेकिन चैत्र और आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तक पड़ने वाले नवरात्र काफी लोकप्रिय हैं। आषाढ़ और माघ मास के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली नवरात्री गुप्त नवरात्री कहलाती हैं। हालांकि गुप्त नवरात्री आमतौर पर नहीं मनायी जाती है लेकिन तंत्र साधना करने वालों के लिये गुप्त नवरात्री बहुत ज्यादा महत्व हैं।

नवरात्रि, नवदुर्गे नौ दिनों का उत्सव है। नवरात्र के इस महापर्व में दिव्य स्त्री शक्ति स्वरूप मां दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों क्रमशः शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धदात्री देवी की पूजा-अर्चना की जाती है। देवी के यह नौ रूप, नवग्रहों के आधिपत्य तथा उनसे जुड़ी बाधाओं को दूर व उन्हें प्रबल करने हेतु भी पूजे जाते हैं। नौ दिनों तक चलने वाला यह पर्व माँ दुर्गा और उनके नौ स्वरूपों को समर्पित है।


आने वाला है माँ दुर्गा का त्यौहार करें शुभ मुहूर्त में कलश स्थापना


शारदीय नवरात्रि को सभी नवरात्र में प्रमुख और महत्वपूर्ण माना जाता है इसलिए इसे महानवरात्रि भी कहा जाता है। यह आश्विन मास में आते हैं और इन नवरात्रों को ‘शारदीय नवरात्र’ कहा जाता है क्योंकि इस समय शरद ऋतु होती है। शारदीय नवरात्रि का महत्व इसलिए भी बढ़ जाता है क्योंकि यह नवरात्रि विजयदशमी के पर्व के ठीक पहले आती हैं।

धार्मिक मान्यता के अनुसार आद्यशक्ति माँ दुर्गा की पूजा-अर्चना प्राचीन काल से ही चली आ रही है। अनेक पौराणिक कथाओं में देवी की आराधना का महत्व बताया गया है, भगवान श्री राम जी ने भी विजय की प्राप्ति के लिए माँ दुर्गा जी की उपासना की थी। शारदीय नवरात्र भक्तों की आस्था और विश्वास का प्रतीक हैं।

इस वर्ष शारदीय नवरात्रि दिनांक 29 सितम्बर 2019 से आरम्भ होकर 7 अक्टूबर 2019 तक मनायी जाएगी। नवरात्र में मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-आराधना की जाती है। नवरात्र के व्रत में नौ दिन तक भगवती दुर्गा का पूजन, दुर्गासप्तशती का पाठ तथा एक समय भोजन का व्रत धारण किया जाता है। ये नवरात्रि शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तक मनाए जाते हैं। दुर्गा अष्टमी तथा नवमी को भगवती दुर्गा देवी की पूर्ण आहुति दी जाती है। नौ दिन उपवास के बाद नवमी का पूजन किया जाता है जिसमें कन्या पूजन का भी विशेष महत्व है। कुछ लोग अष्टमी पूजन के बाद भी कन्या पूजन करते हैं। दसवें दिन दशहरा होता है जो धूमधाम से मनाया जाता है।


आने वाला है माँ दुर्गा का त्यौहार करें शुभ मुहूर्त में कलश स्थापना


माता दुर्गा हिन्दू धर्म में आद्यशक्ति के रूप में सुप्रतिष्ठित है तथा माता शीघ्र फल प्रदान करनेवाली देवी के रूप में लोक में प्रसिद्ध है। यदि कोई व्यक्ति नौ दिनों तक पूजा करने में समर्थ नहीं है और वह माता के नौ दिनों के व्रत का फल लेना चाहता है तो उसे प्रथम नवरात्र तथा अष्टमी का व्रत करना चाहिए माता उसे मनोवांछित फल प्रदान करती है।

नवरात्रि के समस्त नौ दिनों को बहुत ही पावन माना जाता है। नवरात्रि के पहले दिन घटस्थापना करके नौ दिनों तक देवी दुर्गा की आराधना और व्रत का संकल्प लिया जाता है। कलश या घटस्थापना के लिए मिटटी की वेदी बनाकर उसमे जौ बौया जाता है। इसी वेदी पर कलश स्थापित किया जाता है और कलश के ऊपर लाल कपडे में लपेट कर जटा वाला नारियल रखें। कलश के साथ देवी की प्रतिमा स्थापित करें और  साथ ही ज्योति का दीप रखें। ज्योति प्रज्ज्वलन के साथ ही देवी का पूजन किया जाता है। साथ ही मां दुर्गा सप्तसती का पाठ करें। माता की आरती उतारें और माता को भोग लगाकर सुख शांति व समृद्धि की कामना करें। नित्य पाठ पूजन के समय दीप अखंड जलता रहना चाहिए।

Apple iPhone 11 Pro and 11 Pro Max  | आईफोन 11 प्रो / 12 मेगापिक्सल के तीन कैमरे

Apple iPhone 11 Pro and 11 Pro Max  | आईफोन 11 प्रो / 12 मेगापिक्सल के तीन कैमरे

Apple ने iPhone 11, iPhone 11 प्रो और iPhone 11 प्रो मैक्स सहित आईफ़ोन के नवीनतम लाइनअप को लॉन्च किया है। iPhone 11 पिछले साल के iPhone XR का उत्तराधिकारी है। डिवाइस की कीमत 699 डॉलर है और इसे 20 सितंबर से भारत में उपलब्ध कराया जाएगा। पेटीएम ने घोषणा की है कि आज लॉन्च किए गए सभी एप्पल उत्पादों को 20 सितंबर से पेटीएम मॉल पर उपलब्ध कराया जाएगा। कंपनी ने यह भी कहा है कि वह इन सभी उत्पादों पर 10,000 रुपये का कैशबैक देगी।

Apple iPhone 11 Pro and 11 Pro Max


इसमें ग्रीन, ग्रे, सिल्वर और गोल्ड कलर मिलेंगे। इसमें नया ओएलईडी डिस्प्ले पैनल मिलेगा।  यह 15 फीसदी अधिक एनर्जी बचाता है। साथ ही यह स्पेशल ऑडियो साउंड से लैस है। इसमें सुपर रेटिना एक्सडीआर डिस्प्ले दिया गया है। इसके सीपीयू को 8.5 बिलियन ट्रांजिस्टर से बनाया गया है। इसमें भी ए13 बायोनिक चिपसेट का इस्तेमाल किया गया है। इसकी बैटरी आईफोन एक्सएस से 4 घंटे और एक्स एस मैक्स से 5 घंटे ज्यादा बैकअप देती है। इसमें ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप मिलेगा। जिसमें 12 मेगापिक्सल वाइड कैमरा 12 टेलीफोटो कैमरा और 12 मेगापिक्सल अल्ट्रावाइड कैमरा मिलेंगे। इसमें डीप फ्यूजन तकनीक का इस्तेमाल किया गया है जो मशीन लर्निंग की मदद से फोटो लेता है। इसमे हाई रेजोल्यूशन वीडियोग्राफी की जा सकती है। यह कलर टोन को ऑटो एडजस्ट करेगा साथ ही फोन में ही वीडियो एडिटिंग की जा सकेगी।इसके हाई पावर की मदद से कम रोशनी में भी एचडी रिकॉर्डिंग की जा सकेगी। आईफोन 11 प्रो की कीमत 71 हजार रुपए और आईफोन 11 प्रो मैक्स की कीमत 79 हजार रुपए होगी।




Related search :-iphone 11 official video by apple,iphone 11,iphone 11 pro max,iphone 11 price,iphone 11 pro,iphone 11 review,apple iphone 11,iphone 11 launch event,iphone 11 max,2019 iphone,iphone 11 unboxing,iphone 2019,iphone 11 release date,iphone 11 trailer by apple,iphone 11 features,iphone 11 pro camera,iphone 11r,unboxing iphone 11,iphone 11 unboxing in hindi,iphone 11 camera,ios 13,iphone 11 trailer

 Pitru Paksha Shradh Dates 2019:  कब से शुरु हो रहे हैं पितृ पक्ष, क्या है महत्व और श्राद्ध की तिथियां


हिन्दू धर्म में अनेक प्रकार के व्रत, पर्व, परंपराएं और रीति-रिवाज़ विद्यमान हैं। हिंदूओं में जन्म से लेकर मृत्योपरांत तक अनेकों तरह के संस्कार किये जाते है। हिन्दू धर्म के अनुसार अंत्येष्टि को अंतिम संस्कार माना जाता है। परन्तु अंत्येष्टि के बाद भी कुछ ऐसे कर्म होते हैं जिन्हें केवल मृतक के संबंधी ख़ास तौर पर संतान को ही करने होते है। उन्हीं कर्म में से एक श्राद्ध कर्म भी होता है। श्राद्ध करने का अधिकार पुत्र, भाई, पौत्र, प्रपौत्र समेत महिलाओं को भी होता है।

पितृ पक्ष भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष पूर्णिमा से शुरू होते हैं और आश्विन माह कृ्ष्ण अमावस्या पर समाप्त होते हैं। पितृ्पक्ष अर्थात श्राद्धपक्ष की समयावधि पंद्रह दिन की होती है, जिसमें हिंदू धर्म के लोग अपने पूर्वजों को भोजन और जल अर्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं। इस बार पितृ पक्ष 13 सितंबर से शुरु होकर 28 सितंबर तक रहेगें।

हिंदू संस्कृति में पितृ पक्ष को एक महत्वपूर्ण पर्व माना गया है। यह पर्व मृत पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए किया जाता है। हिंदू धर्म में माता-पिता को ईश्वर के समान माना गया है।  मृत्यु के बाद अपने पूर्वज पितरों के उद्धार के लिए श्राद्ध करना आवश्यक है। यही कारण है कि भारतीय समाज में जीवित रहते हुए भी बड़े बुजुर्गों का आदर और मरणोपरांत उनका श्राद्ध किया जाता है। हिंदू धर्म में ऐसी मान्यता है कि श्राद्ध रात्रि में नही किया जा सकता है, इसके लिए दोपहर का बारह से एक बजे तक का समय सबसे उपयुक्त माना गया है।

हिंदू धर्म में ऐसी मान्यता है कि गाय, कुत्ता, कौवा चींटी और देवताओं को पितृपक्ष में भोजन कराना चाहिए। इसलिए श्राद्ध करते वक्त पितरों को अर्पित करने के लिए भोजन के पांच अंश निकाले जाते है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि कुत्ता जल का, चींटी अग्नि का, कौवा वायु का, गाय पृथ्वी का और देवता आकाश का प्रतीक है, इस प्रकार से हम इन पाचों को आहार देकर हम पंच तत्वों के प्रति अपना आभार वयक्त करते है। 

हिन्दू शास्त्रों में देवों को प्रसन्न करने से पहले, पितरों को प्रसन्न किया जाता है। इन दिनों में पितरों को खुश करने का लोग भरपूर प्रयास करते हैं ताकि उनके जीवन के संकट दूर हो सकें। यदि पितृपक्ष के दौरान किसी को पितृदोष लगा है यानि पितृ नाराज हैं तो उन्हें आसानी से प्रसन्न किया जा सकता है। मान्यता है कि इस अवधि में यमराज कुछ समय के लिए पितरों को स्वतंत्र कर देते हैं जिससे वह अपने परिजनों से श्राद्ध ग्रहण कर सकें। 

पितृ पक्ष के दौरान किसी भी तरह का शुभ कार्य नहीं किया जाता है और ना ही नए वस्त्र या सामान खरीदे जाते हैं। जबतक पितृ पक्ष चलता है तबतक मांस-मदिरा तथा अन्य तामसी भोजन ग्रहण नही किया जाता है। पितृ पक्ष का अन्तिम दिन यानि पितृ विसर्जन के दिन को सर्वपितृ अमावस्या या महालय अमावस्या के नाम से जाना जाता है। इस दिन लोगो द्वारा अपने पूर्वजों का श्राद्ध कर्म किया जाता है। पूरे पितृ पक्ष में महालय अमावस्या सबसे महत्वपूर्ण दिन होता है।


 Pitru Paksha Shradh Dates 2019:  कब से शुरु हो रहे हैं पितृ पक्ष, क्या है महत्व और श्राद्ध की तिथियां