आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा कहते हैं। जो इस वर्ष 2019 में 16 जुलाई से 17 जुलाई तक मनाई जायेगी। इस दिन गुरु की पूजा की जाती है।




हिन्दू धर्म में गुरु को भगवान का स्थान दिया गया है। भारतीय संस्कृति में माना जाता है कि गुरु ही शिक्षा के मार्ग पर ले जाते हैं। साथ ही ईश्वर को प्राप्त करने और इस संसार रूपी भव सागर से निकलने में गुरु ही हमारी सहायता करते हैं| आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा कहते हैं। इस दिन गुरु की पूजा की जाती है। 

गुरु गोविन्द दोनों खड़े, काके लागूं पाँय।

बलिहारी गुरु आपनो, गोविंद दियो बताय॥

साधारण भाषा में गुरु वह व्यक्ति हैं जो ज्ञान का प्रकाश फैलाते हैं और इस संसार में बारंबार आने वाले कष्टों से बाहर निकलने की राह दिखाते हैं। गुरु के इसी महत्व को याद करते हुए हर वर्ष गुरु पूर्णिमा मनाई जाती है। भारतीय शास्त्रों में गुरु का अर्थ बताया गया है, गु का अर्थ- अंधकार या मूल अज्ञान और रु का अर्थ बताया गया है- उसका निरोधक। अंधकार को हटाकर प्रकाश की ओर ले जाने वाले को "गुरु" कहा जाता है। भारत में गुरु पूर्णिमा का पर्व बड़ी श्रद्धा के साथ मनाया जाता है।

मान्यता है कि महर्षि वेदव्यास का जन्म आषाढ़ पूर्णिमा को लगभग 3000 ई. पूर्व में हुआ था । वेद व्यास जी प्रथम और संस्कृत के महान विद्वान थे और जिन्होंने सनातन धर्म के चारो वेदों की भी रचना की थी। व्यास जी ने वेदों को उनके ज्ञान के आधार पर चार भागों में बांटा और उनका नाम ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद और अथर्ववेद रखा। वेदों का इस प्रकार विभाजित करने के कारण ही वह वेद व्यास के नाम से विख्यात हुए। इसके साथ ही उन्होंने महाभारत तथा 18 पुराणों की भी रचना की थी। जिससे पृथ्वी पर धर्म और ज्ञान में वृद्धि हुई, यही कारण है कि उनके जन्म दिवस को गुरु पूर्णिमा या व्यास पूर्णिमा के रुप में मनाया जाता है।





भारत देश हमेशा से अपनी संस्कृति, आचरण शिष्टाचार की वजह से सम्पूर्ण विश्व में जाना जाता है। यहां पर गुरु एवं माता-पिता को भगवान का रूप माना जाता है। इस सन्दर्भ में एक दोहा भी बेहद प्रचलित है-

 गुरुर्ब्रह्मा ग्रुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः।

 गुरुः साक्षात् परं ब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः

अर्थात गुरु ब्रह्मा है, गुरु विष्णु है, गुरु ही शंकर है गुरु ही साक्षात् परब्रह्म है और उन्हीं सद्गुरु को हम नमन करते हैं।


गुरु पूर्णिमा का महत्व-

वैसे तो भारतीय संस्कृति में, हर मास की पूर्णिमा का धार्मिक महत्व है। शास्त्रों के अनुसार पूर्णिमा को सिद्धियों की प्राप्ति और शास्त्रीय उपायों के लिए महत्वपूर्ण दिन माना गया है। परन्तु गुरु पूर्णिमा इन सभी पूर्णिमाओं से अधिक महत्वपूर्ण है। क्योकि इस दिन गुरु पूजा का विधान है।




गुरु पूर्णिमा पर गुरु की पूजा-आराधना की जाती है। भारत में गुरुपूर्णिमा का अत्यधिक महत्व है। हिन्दू धर्म में महर्षि वेद व्यास को ब्रह्मज्ञानी अर्थात ज्ञानियों के ज्ञानी माना गया है। वेदव्यास जी को आदिगुरु भी कहते हैं, अत: यही कारण है कि गुरु पूर्णिमा के दिन उनकी पूजा की जाती है। गुरु पूर्णिमा के दिन वेद व्यास जी के अलावा लोग अपने गुरु की भी पूजा-सेवा करते हैं। गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है।

भारत ऋषियों और मुनियों का देश है यहाँ पर जितनी  भगवान की पूजा होती है उतनी ही ऋषियों-मुनियों की भी होती है। भारत भर में गुरू पूर्णिमा का पर्व बड़ी श्रद्धा व उत्साह से मनाया जाता है। प्राचीन काल में विद्यार्थी गुरु के आश्रम में निःशुल्क शिक्षा ग्रहण करते थे। इस दिन वह श्रद्धा भाव से अपने गुरु का पूजन करके उन्हें दक्षिणा देते थे। आज भी गुरु पूजा का महत्व कम नहीं हुआ है। परंपरागत रूप से शिक्षा देने वाले विद्यालयों में, संगीत और कला के छात्रों  में आज भी यह दिन गुरू को सम्मान देने का होता है। इस दिन मंदिरों में पूजा होती है, पवित्र नदियों में स्नान होते हैं, जगह जगह भंडारे होते हैं और मेले लगते हैं।




गुरु पूर्णिमा पर्व तिथि व मुहूर्त 2019


गुरु पूर्णिमा तिथि प्रारंभ - 01:48 बजे (16 जुलाई 2019) से

गुरु पूर्णिमा तिथि समाप्त - 03:07 बजे (17 जुलाई 2019) तक


गुरु पूर्णिमा या व्यास पूर्णिमा को सदैव श्रद्धाभाव से मनाना चाहिए ना कि अंधविश्वास के आधार पर| गुरु का आशीर्वाद सबके लिए ज्ञानवर्द्धक एवं कल्याणकारी होता है, इसलिए इस दिन गुरु पूजन के पश्चात गुरु का आशीर्वाद अवश्य लेना चाहिए|



















Tags: about गुरु पूर्णिमा, date of guru purnima 2019, festival of guru purnima, guru purnima article in hindi, guru purnima celebration, guru purnima chandra grahan, guru purnima festival, guru purnima history in hindi, guru purnima how to celebrate, guru purnima image, guru purnima in hindi, guru purnima information, guru purnima july 2019, guru purnima on which date, guru purnima wishes in hindi, happy गुरु पूर्णिमा, what is गुरु पूर्णिमा, wishes for guru purnima, गुरु पूर्णिमा 2019, गुरु पूर्णिमा kyu manaya jata hai, गुरु पूर्णिमा shlok, गुरु पूर्णिमा उत्सव, गुरु पूर्णिमा कब की है, गुरु पूर्णिमा का महत्व, गुरु पूर्णिमा किस तारीख को है, गुरु पूर्णिमा किस दिन है, गुरु पूर्णिमा को क्या करना चाहिए, गुरु पूर्णिमा क्या है, गुरु पूर्णिमा क्यों मनाई जाती है, गुरु पूर्णिमा पर उपाय














____
99advice.com provides you with all the articles pertaining to Travel, Astrology, Recipes, Mythology, and many more things. We would like to give you an opportunity to post your content on our website. If you want, contact us for the article posting or guest writing, please approach on our "Contact Us page."
Share To:

Sumegha Bhatnagar

Post A Comment:

0 comments so far,add yours