ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या 06 जून 2024 को मनाया जाने वाला वट सावित्री व्रत, सुहागिन महिलाएं अपने पति की दीर्घायु की कामना के लिए करती है।

जाने वट सावित्री व्रत का महत्व और शुभ मुहूर्त

मुख्य बिंदु

हिंदू धर्म में वट सावित्री का व्रत बहुत ही शुभ माना जाता है।

इस व्रत का सुहागन महिलाओं के बीच खास महत्व है।

विधि-विधान के साथ होगी वट वृक्ष का पूजन।

इस साल यह उपवास 6 जून को रखा जाएगा।


हिन्दू धर्म पति और संतान की प्राप्ति और उनकी सलामती के लिए कई व्रत रखे जाते हैं। वट सावित्री व्रत भी उन्ही में से एक है। मान्यताओं के अनुसार, वट सावित्री व्रत अपने पति की लंबी आयु और संतान के उज्जवल भविष्य के लिए रखा जाता है। साल 2024 में वट सावित्री का व्रत 06 जून यानी गुरुवार को है। 

वट सावित्री व्रत 2024 शुभ योग

* ज्येष्ठ अमावस्या पर वट सावित्री व्रत के साथ शनि जयंती का पर्व भी मनाया जाएगा।

आपको बता दें कि खास बात यह है कि वट सावित्री के दिन शनि जयंती पर तीन शुभ योगों का संयोग, गजकेसरी योग, शुक्रादित्य योग और बुधादित्य योग बन रहा है। ऐसे में शनि देव की पूजा से शुभ फल की प्राप्ति होगी

* इसके अलावा वट सावित्री अमावस्या के दिन धृति योग के साथ शिववास योग का निर्माण हो रहा है, जो इस व्रत के प्रभाव को दोगुना कर देगा। 

* इसके साथ इस दिन रोहिणी नक्षत्र के साथ धृति नाम का योग पूरे दिन प्राप्त होगा

* ऐसे में इस शुभ और अत्यंत संयोग में वट सावित्री का व्रत रखना बेहद शुभ फलदायी होगा साथ ही शनि देव की कृपा रहेगी।


वट सावित्री व्रत का महत्व

भारतीय धर्म में वट सावित्री अमावस्या स्त्रियों का महत्वपूर्ण पर्व है। मूलतः यह व्रत-पूजन सौभाग्यवती स्त्रियों का है। इस दिन वट (बड़, बरगद) का पूजन होता है। इस व्रत को स्त्रियां अखंड सौभाग्यवती रहने की मंगलकामना से करती हैं। इस दिन स्त्रियाँ अपने-अपने समूह में या अकेले ही आकर बरगद के पेड़ के पास या अपने घर में बरगद की टहनी रख कर, अपने पति की लम्बी आयु के लिए पूजा-अर्चना करती है। कई स्थानों में इस व्रत को बड़मावस भी कहते हैं।


वट सावित्री व्रत विशेषकर उत्तर भारत में बहुत लोकप्रिय है। मान्यता है की इस दिन सावित्री अपने पति सत्यवान के प्राण यमराज से वापस लेकर आयी थी इसीलिए इस दिन को वट सावित्री व्रत के रूप में मनाया जाता है और पति की लम्बी उम्र की कामना की जाती है। इस व्रत में वट वृक्ष की पूजा का ख़ास महत्व होता है। बरगद के पेड़ पर लटकी शाखाओं को देवी सावित्री का ही रूप माना जाता है इसलिए इस दिन वट वृक्ष की पूजा करने का विधान है। यह व्रत सावित्री द्वारा की गयी भक्ति और अपने पति के प्राणो की रक्षा के दृढ़ संकल्प को दर्शाता है।

जाने वट सावित्री व्रत का महत्व और शुभ मुहूर्त

यह व्रत हर साल ज्येष्ठ माह की कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को रखा जाता है। वट सावित्री व्रत पूजन विधि में क्षेत्र के अनुसार कुछ अंतर पाया जाता है। प्रायः सभी स्त्रियां अपनी -अपनी परम्परा के अनुसार वट सावित्री व्रत पूजा करती हैं।

वट सावित्री व्रत 2024 तिथि

ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि आरंभ: 05 जून 2024, शाम 07: 54 मिनट से

ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि समाप्त: 06 जून 2024, शाम 06: 07 मिनट पर

ऐसे में उदया तिथि के अनुसार वट सावित्री अमावस्या व्रत 06 जून 2024, गुरुवार के दिन रखा जाएगा।


वट सावित्री व्रत 2024 पूजा मुहूर्त

06 जून 2024 को सुबह 11 बजकर 52 मिनट से दोपहर 12 बजकर 48 मिनट पर होगा।








Tags: Vat Savitri Vrat 2024, Vat Savitri purnima 2024, jyeshtha amavasya 2024, Vat Savitri amavasya 2024, Vat Savitri Vrat 2024 shubh yoga, what is वट सावित्री व्रत, वट सावित्री अमावस्या 2024वट सावित्री कितने तारीख को है, वट सावित्री पूजा सामग्री, वट सावित्री महत्व, वट सावित्री व्रत 2024वट सावित्री व्रत 2024वट सावित्री व्रत 2024 date, वट सावित्री व्रत 2024 में कब है, वट सावित्री व्रत kaise kare, वट सावित्री व्रत ki katha, वट सावित्री व्रत pooja vidhi in hindi, वट सावित्री व्रत story, वट सावित्री व्रत हिंदी में, 





____
99advice.com provides you with all the articles pertaining to Travel, Astrology, Recipes, Mythology, and many more things. We would like to give you an opportunity to post your content on our website. If you want, contact us for the article posting or guest writing, please approach on our "Contact Us page."
Share To:

Sumegha Bhatnagar

Welcome to my blog! Here, I delve into the worlds of travel, fashion, relationships, spirituality, mythology, food, technology, and health. Explore stunning destinations, stay trendy with fashion insights, navigate the intricacies of relationships, ponder spiritual matters, unravel ancient myths, savor culinary delights, stay updated on tech innovations, and prioritize your well-being with health tips and many more fun topics!! Join me as we explore these diverse topics together!

Post A Comment:

0 comments so far,add yours