चाय के शौकीनो में, चाय के लाभ और हानि पर प्रायः बहस होती है। ऐसा नहीं कि चाय के सिर्फ हानियाँ ही हैं, उसके कई लाभ भी हैं। आइए जानते हैं पांच प्रकार की चाय के विषय में,उसके स्वास्थ्यवर्धक गुणों के साथ-

दुनिया भर में पानी के बाद,  3000 से अधिक किस्मों के साथ चाय का एक कप सबसे अधिक पिया जाने वाला पेय पदार्थ है। सर्दियों के मौसम में चाय आपके दिन को अधिक सक्रिय बना देती है। लोग चाय के प्रति अपने लगाव के लिए जाने जाते हैं, और सर्दियों में यह कई लोगों के लिए एक आदत बन जाती है। चाय के कई लाभ हैं। चाय मुख्यतः अपने ऑक्सीडेशन स्तर पर 5 प्रकार की होती हैं। सामान्य बोलचाल में, चाय में जितनी कम ऑक्सीडाइज्ड होगी, उतनी ही यह स्वादिष्ट और सुगंध में बेहतर होगी।


 आइए 5 प्रकार के चाय के लाभों को जानते हैं-


सफेद चाय:


यह चाय का सबसे कम संसाधित रूप है, जो उत्कृष्ट स्वाद और खुशबू देता है। यह जीवाणुरोधी (एंटीबैक्टीरियल) गुणों से भरपूर है और यह कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) को कम करने में सहायक है। इसमें कैफीन की मात्रा कम होने के कारण, यह उन लोगों के लिए सबसे अच्छा विकल्प है जो अपने कैफीन सेवन पर ध्यान देते हैं। जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं, वे एक चम्मच सफेद पत्ती, आधा चम्मच अदरक पाउडर और नींबू की कुछ बूंदें मिलाकर 15 दिनों तक इसका सेवन करें, और फिर आपको आशाजनक परिणाम देखने को मिलेंगे। फिनोल की उच्च मात्रा के कारण, यह एलिस्टिन और कोलेजन को मजबूत करता है, जो झुर्रियों को रोकने और मुँहासे का इलाज करने में भी मदद करता है। यह तीन से चार कप रोजाना सेवन किया जा सकता है।





ग्रीन चाय:


यह विरोधी ऑक्सीडेंट के साथ भरपूर होने के कारण, कोलेस्ट्रॉल को कम करने और स्वस्थ कोशिकाओं को तेजी से बढ़ाने में मदद करता है। इसमें चीनी मिलाकर इसका प्रयोग चेहरे की मृत कोशिकाओं को हटाने के लिए फेस स्क्रब के रूप में भी कर सकते हैं। यह एक बेहतरीन टोनर है, जो बंद रोम छिद्रों को खोलने में मदद करता है। यह आंखों के आसपास की सूजन को कम करने के लिए भी एक अच्छा विकल्प है। इसका उपयोग बालों को साफ रखने और उन्हें स्वस्थ रखने के लिए भी किया जा सकता है। ग्रीन टी से अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए इसमें दूध, चीनी, क्रीम और यहां तक कि शहद भी नहीं मिलाएं। उबलते पानी में एक चम्मच ताजा पत्ती मिलाएं और 2 से 3 मिनट रखने के बाद ही इसे पिएं। आप एक दिन में दो या तीन कप इस चाय का सेवन कर सकते हैं।  










Also Read in English: 5 types of tea with its benefits





काली चाय:


काली चाय में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, सोडियम की सबसे कम मात्रा है और यह एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर है जिसे पॉलीफेनोल कहा जाता है। इस चाय के सेवन से हृदय रोग, दस्त, पाचन समस्याओं, उच्च रक्तचाप, अस्थमा, मधुमेह के स्तर में कमी आती है,यह रोगक्षमता को बढ़ाती है, और हड्डियों को स्वस्थ रखती है। सिंगापुर के नेशनल यूनिवर्सिटी की शोध रिपोर्ट के अनुसार, वैज्ञानिकों ने यह पाया है कि काली चाय में कैफीन पार्किंसंस रोग से व्युत्क्रम से जुड़ा हुआ है। इसलिए यह पार्किंसंस के जोखिम को कम करने में मदद करती है। काली चाय प्रति व्यक्ति तैयार करने के लिए, उबलते पानी में ¼-½ टी स्पून खुली पत्ती मिलाएं । इसे दूध और शर्करा के बिना  पीना चाहिए और प्रति दिन 5 कप से अधिक काली चाय नहीं पीनी चाहिए। यह उन लोगों के लिए आदर्श है जिनकी त्वचा तेलयुक्त है। काली चाय रोम छिद्रों में कसावट लाने, त्वचा को ताजगी लाने और आपके चेहरे पर एक प्राकृतिक और उज्ज्वल चमक लाने में मदद करता है।  



रूइबोस चाय या लाल चाय:


रूइबोस चाय में कैफीन नहीं होता और इसमें टैनिन कम होता है। दक्षिण अफ्रीकी रूइबोस परिषद के मुताबिक, रियोबोस चाय नहीं है, लेकिन यह एक जड़ी बूटी है। चाय का रंग लाल होता है। यह अपने स्वाद और अनोखे रंग जो कि अन्य लाभों के साथ आता है के कारण बहुत लोकप्रिय है । इसमें कैंसर से लड़ने की सम्भावनाएं हैं और यह त्वचा अल्जीर(skin Alger) में भी फायदेमंद है। इसका उपयोग सिरदर्द, अनिद्रा, अस्थमा, एक्जिमा, अस्थि कमजोरी, उच्च रक्तचाप, एलर्जी, और समय से पूर्व उम्र ना बढ़ने के लिए किया जाता है। यह चाय  उल्टी, दाग धब्बे, आपकी त्वचा पर झाइयां,मुँहासे, त्वचा की सूजन को कम करती है।  कैल्शियम, लोहा, तांबे, पोटेशियम, मैंगनीज, जस्ता, मैग्नीशियम, और अल्फा हाइड्रॉक्सी एसिड जैसे इस चाय में इतने सारे खनिज पाए जाते हैं। टी बैग या ताज़ी पत्तियों की मात्रा आपके स्वाद पर निर्भर करती है। इस चाय को काली चाय के समान ही तैयार किया जाता है। इस चाय को दूध और चीनी डाल कर भी बनाया जा सकता हैं । इसे एक प्राकृतिक कोमल क्लीनर के रूप में इस्तेमाल करने के लिए, पहले चाय को उबाल कर ठंडा कर लें और फिर इसे चेहरे पर लगाएं। 10 मिनट के लिए सूखने  दें और फिर धो लें।



ओलोंग चाय:


ओलोंग चाय एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर है। यह कैल्शियम, मैंगनीज, पोटेशियम, कैरोटीन, तांबे और सेलेनियम के साथ-साथ विटामिन ए, बी, सी, ई और विटामिन के, का भी प्रमुख स्रोत हैं। यह हृदय रोगों, वजन को नियंत्रित करने, उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर, सूजन संबंधी विकार, बेहतर हड्डियों की संरचना मै मददगार हैं और दांतों को खराब होने से भी रोकता हैं। यह त्वचा को स्वस्थ और रंग को साफ रखती है। उबलते  पानी में एक टी बैग या एक टी स्पून खुली चाय पत्ती डाले और लगभग 5 मिनट तक रखने के बादगर्म चाय का आनंद लें। आप अपने स्वाद के अनुसार इसे दूध के साथ भी पी सकते हैं। जो लोग एक्जिमा से पीड़ित हैं और एक चमकदार त्वचा चाहते हैं, उन्हें दो से तीन कप ओलॉन्ग चाय पीने की सलाह दी जाती है। यह काले धब्बे और झुर्रियों को कम करती है। यह एक प्रभावकारी सनस्क्रीन और टोनर है।



महत्वपूर्ण सलाह:

ज्यादा कैफीन सेवन करने के कुछ दुष्प्रभाव होते हैं जैसे कि चिंता, सिरदर्द, नींद, दस्त, ईर्ष्या, अनियमित दिल की धड़कन, और भ्रम, अतः आप अपने सामान्य दिनचर्या में कोई नया आहार तत्व या पेय पदार्थ जोड़ने से पहले अपने डॉक्टर से बात ज़रूर करे।

उम्मीद है कि उपर्युक्त आलेख में दी गई जानकारी चाय के शौकीनो के लिए लाभकारी और पर्याप्त है।









Tags: 5 types of tea with its benefits health, 5 types of tea with its benefits quickly, 5 types of tea with its benefits in hindi, 5 types of tea with its benefits weight loss, 5 types of tea with its benefits skin




Also Read in English:5 types of tea with its benefits






____





  • Download 99Advice app
  • 99advice.com provides you all the articles pertaining to Travel, Astrology, Recipes, Mythology, and many more things. We would like to give you an opportunity to post your content on our website. If you want, contact us for the article posting or guest writing, please approach on our "Contact Us page."
    Share To:

    Sumegha Bhatnagar

    Post A Comment:

    0 comments so far,add yours